सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

किसान sangathan का अमर्यादित विरोध jan. 26

किसान आंदोलन में आतंकी संगठनों का प्रदर्शन


भारत वर्ष में आंदोलन कुछ समय से अराजकता फैलाने का साधन मात्र रह गया है इसका उदाहरण 26 जनवरी 2021 को देखा गया । 26 जनवरी को जब से हमने होश संभाला तब से अब तक कभी भी स्वतंत्रता के पर्व के दिन हमने देश की जनता चाहे वो कोई भी विचारधारा को समर्थन करने वाले हो इस दिन प्रदर्शन होते हुए नहीं देखा ।


अब तक के शाशन कल के भोग करने वाले लोगों को शायद अभी तक ये खुमार नहीं उतरा कि वे भगवान है,वे जो भी कहेंगे,करेंगे वो सही है।जिसको गलत कह दिया वो ग़लत जिसको सही कह दिया वो सही।


इसका उदाहरण है 26/01/2021 का नाम किसान आन्दोलन में वीभत्स प्रदर्शन और उस प्रदर्शन को कुछ तथाकथित किसान नेताओं के द्वारा सही ठहराना। 


किसान



अब तक होता ये था की कुछ तथाकथित बुधजिवी पत्रकारों के द्वारा कुछ घटनाओं को अपने हिसाब से सही या ग़लत सिद्ध कर देते थे। प्रतिवाद में कोई भी उत्तर नहीं मिलता था इस वजह से लोगों को अपने आपको भगवान या सुपर पॉवर होने का भ्रम हो गया था।


चूंकि अब सोशल मीडिया या प्रतियोगी मीडिया के द्वारा उसका जवाब मिलने लगा है और उन्ही के भाषा में तो इन तथाकित बुधजिवी वर्ग और सुपर पॉवर में बौखलाहट  नामक मानसिक बीमारी घर कर गई है। इसी का परिणाम स्वरूप कुछ आंदोलन जैसे शाहीन बाग या किसान आंदोलन के रूप में दिख रहा है।


ये किसान आंदोलन उन  स्वघोषित बुधजिवी वर्ग के निराशा हतासा डर सब कुछ छीन जाने का ये किसान आंदोलन परिणाम है। ये आंदोलन ज्यादा दिन नहीं चलने वाले क्योंकि जन्हा से इनकी फंडिंग अती है उनकी शक्ति भी धीरे धीरे छीन रही है।


कौन इनको साथ दे रहा है और क्या है कारण


अभी तक सभी विपक्षी पार्टियों के जितने भी सत्ता सीन लोग है उनके समर्थक अधिकतर दिमाग़ से कमजोर और आक्रामक दिखने वाले लोग जो आक्रमकता के आलावा उनका कोई गुण नहीं है वहीं समर्थक थे।


वजह ये था की ये लोग अपने आका के ख़िलाफ़ कभी नहीं जा सकते है और अपने आका के हर हुक्म को बिना सोचे समझे पूरा करते है।


इसमें सत्ता सीन अका को डर नहीं रहता विरोध का अपने ही लोगों के द्वरा और उनका मानना है की इसके द्वरा ये अनन्त कल तक शासन कर सकते थे।


इसका उदाहरण है नेपाल में ओली का शासन चीन के द्वारा , पाकिस्तान में इमरान, भारत में राहुल गांधी का समर्थन। चीन का नीति रही है उधार दे कर गुलाम बनाना और अपनी कठपुतली सरकार जो बुद्धि हिन अराजक हो को शासन देना


मगर बुद्धिहीन गुलाम संख्या में चाहे कितने भी हो बहादुर नहीं होते शेर एक बच्चे को लेकर भी आराम से सोता है और गाधहा दस बच्चों के साथ भी डर के साथ जागता रहता है।


किसान



यही गलती विपक्षी पार्टी के लोगों ने भी किया और चीन भी कर रहा है । बुद्धिमान व्यक्ति संख्या में चाहें कितना भी कम क्यों ना हो उसका विरोध क्रांती लाती है उसके समर्थक दिल से जुड़े होते है। गुलाम कभी भी परिवर्तन नहीं ला सकता और बुद्धिमान बीना अराजक व्यवहार करे भी क्रांति ला सकता है।



किसान आंदोलन किसानों का आंदोलन नहीं है बल्की असामाजिक हारे निराश लोगों का समूह है जो  एक ग़लत प्रयास कर रहा है अपने को शक्तिशाली साबित करने को और वर्तमान केंद्र सरकार से सौदेबाजी के लिए मजबूर करने के लिए ।और इन्होंने ऐसा समय भी चुना है जब चीन के द्वारा गरमा गर्मी हो रही है सीमा पर।


ये तथ्य साबित कर रहे है की ये किसान आंदोलन पाकिस्तान समर्थित और चीन द्वरा फंड किया गया है।

इसका कारण है चीन को भारत द्वारा कूटनीतिक, सैन्य रूप से कमजोर करना इसके उदाहरण है नेपाल पाकिस्तान और गलवान वैली।


इस तरह के आंदोलन के समर्थन करने वाले भी भागी है भारत को कमजोर करने में और इसका परिणाम मिल रहा है चुनावों में हर जगह भारतीय जनता पार्टी ही जीत रही है। और जब तक सही नीति और नीयत से विरोध नहीं होगा तब तक भारतीय जनता पार्टी ही जीतती रहेगी।


विपक्ष को सलह है की अपने समर्थकों को गुलाम न बनाकर जागरूक , बुद्धिमान और सबल बनाएं तभी एक शक्तिशाली विपक्ष का निर्माण होगा और सही लोकतंत्र की स्थापना होगी। इस तरह से किसान आंदोलन के रूप में अराजकता फैलाने से मुठ्ठी भर लोगों का ही समर्थन प्राप्त होगा और फंडिंग जाया जाएगी। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

rakesh tikait मुंगेरी लाल के हसीन सपने 2021

  राकेश टिकैत का ड्रमा क्या आखरी प्रयोग या और कुछ अभी बाकी 26 जनवरी को पूरा राष्ट्र शर्मिंदा था स्वतंत्र भारत के इतिहास में अभी तक किसी भी राष्ट्रीय पर्व पर कभी भी आंदोलन या उग्र विरोध नहीं हुआ क्योंकि सत्ता में जो थे उन्हें राष्ट्र से कोई मतलब नहीं था विपक्ष में जो थे वो भी विरोध और आंदोलन करते थे परन्तु हमेशा जनता के भावनाओं का ख्याल रखा जाता था। परन्तु एक कहावत है बुरी आदत जल्दी जाती नहीं।  जो अभी तक सत्ता में थे उनको लगता है जो विशेष समुदाय जो इनके समर्थक है वही जानता है जो इन्होंने एक प्रोपेगेंडा फैला रखा था उसी के हिसाब से जनता सोचती है । परन्तु जनता इन्हे बार बार आयीना दिखा रही है। 26 जनवरी के शर्मसार कर देने वाली घटना के उपरान्त राकेश टिकैत की रूदाली के कई मायने है पहला है आंदोलन को लंबे समय तक खिचना ताकी सरकार का ध्यान आंतरिक व्यवस्था को दुरुस्त करने में लगा रहे और जो अंतर्राष्ट्रीय घटनएं जैसे नेपाल में अस्थिर राजनैतिक हालत,म्यामार में सैनिक विद्रोह , ताईईवान के सविधनिक फेरबदल , गलवान वैली की स्थिति ,में चीन को बढ़त मील सके और भारत सरकार अंदर ही उलझी रह सके । इसी हेतु चीन के फ

panchatpress का नजरिया भारतीय राजनीति के लिए 1

भारतीय राजनीति भारत वर्ष का नामांकरण राजा भरत के नाम से हुआ जो हस्तिनापुर वर्तमान में हरियाणा मेरठ दिल्ली का क्षेत्र है के राजा सांतनु के पुत्र थे।भरत महान पराक्रमी न्याय प्रिय शासक थे। वर्तमान में भारत को इंडिया और हिंदुस्तान के नाम से भी जाना जाता है। राजनीत की परिभाषा राजनीत का तात्पर्य राज करने की नीति से है अर्थात एक ऐसी व्यस्था जिससे सामाजिक जीवन सुचारू रूप से संचालित हो सके। परन्तु जैसा के हर व्यस्था या अस्तित्व का एक परक्षाइं होती है जो इसके विकृत रूप होती है।विसा ही राजनीत में विकृत है।वो वास्तव में राजनीत ना होकर स्वें का हीत साधन मात्र है।इस विकृति राजनीति को मै कुकुरनिती का नामांकरण करता हूं।अतः राजनीति दो तरह की होती है। 1.राजनीति 2. कुकुरनिती 1 राजनीति  क्या होती है राजनीति एक व्यवस्था का नाम है जिसमें एक शासक अर्थात् व्यवस्था संचालक और दूसरा प्रजा होती है ।राजनीति का एक मात्र उद्देश्य है प्रजाहित व्यस्था का संचालन और व्यवस्था को त्रुटियों को दूर करना ही राजनीति है। 2.कुकुरनिती कुकुरनिती राजनीति का विकृत नीति है जिसमे व्यवस्था होती है शासक होता है प्रजा होती है।परंतु उदेश

Narendra modi jananayak 1 नरेंद्र मोदी जननेता सदी के

  नरेंद्र मोदी परिचय के मोहताज नहीं भारतीय राजनीति में बहुत समयावधि के पश्चात एक सर्वमान्य लोकप्रिय जननायक का उदय हुआ है। स्वतंत्रता के पश्चात भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू हुए परंतु जवाहर लाल नेहरू का चुनाव एकपछिय था। जवाहर लाल नेहरू जननायक नहीं थे बल्की नेहरू जी का प्रधानमंत्री का पद अंग्रेजों और महात्मा गांधी के कृपा स्वरूप प्राप्त हुआ।साथ ही नेहरू जी के परिवार भी वंशवाद के रूप में भारतीय राजनीति में लंबे समय के लिए भारतीय राजनीतिक पटल पर स्थापित रहा। लाल बहादुर शास्त्री जी जो प्रथम जनप्रिय नेतृत्व करता थे का उदय भारतीय राजनीति में जवाहरलाल नेहरू के मृत्य के पश्चात कांग्रेस में नेतृत्व के रिक्त स्थान की पूर्ति हेतु हुआ। परन्तु  इनके बाद काफी समय के लिए कांग्रेस का नेतृत्व की बागडोर और भारत के गरिमामय प्रधानमंत्री का पद संभाला नेहरू के वंश ने। कुछ समय के लिए राजनीतिक पटल पर तीसरा फ्रंट का दिशाविहीन मिलिजुली सरकार ने राज्य किया। भारतीय जनता पार्टी जो राष्ट्रीय सेवम सेवक संघ से जुड़ी हुई पार्टी है का भी भारतीय राजनीति में अच्छी पहचान रही है। भारतीय जनता पार्टी की प्रा